सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गर्भावस्था का पता कैसे लगाया जाता है I

 

xHkkZoLFkk dk irk dSls yxk;k tkrk gSA




dksbZ efgyk xHkZorh gS ;k ugh gS bldk irk dSls yxk;k tkrk gSA oSls efgykvksa esa ;fn ekgokjh dk vkuk cUn gks tkrk gS rks ;g xHkkZoLFkk gksus dk ,d egRoiw.kZ ladsr gSA ysfdu dbZ ckj efgykvksa esa [kwu dh deh o fdlh vU; dkj.k ls Hkh ekgokjh ;k esUlqjs’ku ihfj;M ugh vkrs gS rks fQj ,slh fLFkfr esa xHkkZoLFkk dk irk yxkus ds fy, lcls lLrk o lqYkHk lk/ku gS fu’p; fdV tks dh cktkj esa dbZ ukeks ls feyrk gSA fu’p; fdV dh lIykbZ Hkkjr ljdkj }kjk ljdkjh fpfdRlk laLFkkuks esa fu%’kqYd dh tkrh gSA tcfd ekdsZV esa izsxkU;qt] vkbZ dsu  bR;kfn dbZ dEifu;ksa ds izsxUksUlh VsLV fdV fey tkrs gSA

fu’p; fdV }kjk xHkkZoLFkk ¼Pregnency½  dh tkWp dSls dh tkrh gSA




izsxusUlh tkWp fdV ;k fu’p; fdV dks [kksyus ij mlesa rhu phts fudyrh gSA

01-  tkWp ifV~Vdk ftles VsLV yxk;k tkrk gSA

02-  MªkWij is’kkc dh cqans Mkyus ds fy, ¼dsoy ,d ckj mi;ksx gsrq½A

03-  flfydkWu ikWmp ¼ueh lks[kus ds fy,½A



flfydkWu tks dh vkSj Hkh dbZ phtksa ds lkFk esa vkrk gSA ;s izsxusaUlh dkMZ dks [kjkc ugh gksus nsrk gS vkSj ueh lks[kus ds dke esa vkrk gSA

 

lcls igys ftl Hkh efgyk dh xHkkZoLFkk ;k izsxusUlh dh tkWp djuh gS rks mldk izkr%dky dk igyk eq= ,d lkQ vkSj lq[kh dkWp ;k IykfLVd dh 'kh’kh ;k dUVsuj esa chp dk is’kkc bDV~Bk djuk gS D;ksa dh chp ds is’kkc esa ,plhth ¼g;qeu dksfj;ksfud xksukMks&Vªksfiu gkeksZu½ gkeksZu ftlds }kjk xHkkZoLFkk dh tkWp dh tkrh gS mldh ek=k vf/kd ikbZ tkrh gSA blfy, lqcg dk igyk o chp dk is’kkc dh tkWp dk fjTkYV lgh ik;k tkrk gSA mlds Ik’pkr~ fMLikstscy MªkWij }kjk nks cqWan is’kkc dh tkWp ifV~Vdk esa tgkW ij S fy[kk gqvk ogkW Mkyuh gSA S dk eryc lSEiy ls gksrk gSA C dk eryc gksrk gS dUVªksy ;fn ;g js[kk fn[kkbZ nsrh gS rks ;g n’kkZrk gS fd tkWp fdV lgh gSA vkSj T dk eryc gksrk gS fd vkidk tks VsLV yxk gS mldk D;k fjTkYV gS ;kfu dh efgyk xHkZorh gS ;k ugh gSA  blds Ik’~pkr ikWp feuV bartkj djuk gSA

nks tkequh js[kk,a fn[kkbZ ns%& ;fn ijh{k.k {ks= esa nks tkequh js[kk,a fn[kkbZ ns rks bldk eryc gksrk gS fd efgyk xHkZorh gSA



 

 

,d tkequh js[kk fn[kkbZ ns%& ;fn ijh{k.k {ks= esa ,d ijh{k.k js[kk dsoy C ij ,d tkequh js[kk fn[kkbZ ns rks bldk vFkZ gksrk gS efgyk xHkZorh ugh gSA





vkSj ;fn tkWp fdV esa dsoy VsLV T okyh ykbZu vk;s o dUVªksy C okyh ykbZu fn[kkbZ ugh ns rks bldk eryc ;g gksrk gS fd tkWp fdV lgh fjtYV ugh ns jgk gS vkSj ;fn nksuks ykbZus ugh vk;s rks vkidks iqu% vxys fnu u;s tkWp fdV }kjk xHkkZoLFkk dh tkWp djuh gSA





bl izdkj vki xHkkZoLFkk dh tkWp fu’p; fdV }kjk djds xHkkZoLFkk dk irk yxk ldrs gSA ;fn vki xHkZorh gS vkSj cPpk pkgrs gS rks vkidks ,,ulh dk jftLVªs’ku djokuk pkfg, vkSj ;fn vki cPpk ugh j[kuk pkgrs gS rks vkidks fdlh efgyk fpfdRld ls lEidZ dj lqjf{kr xHkZikr djokuk gksxkA





by Jitendra Kataria


 

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

PUSHKAR FAIR 2022 PICTURE

डिजिटल थर्मामीटर से तापमान कैसे लिया जाता हैI

  fMthVy FkekZehVj ls rkieku dSls fy;k tkrk gSA     rkieku ysuk dksjksuk dky esa ,d cgqr gh egRoiw.kZ dk;Z gSA D;kss fd vxj lgh izdkj ls rkieku ¼VsEijspj½ ugh fy;k tkrk gS rks ;g gekjs fy, ,d cgqr cMh ijs’kkuh dk lcc cu ldrk gSA vr% rkieku ysus dk lgh rjhdk tkuuk csgn gh t:jh gSA lkFk gh rkieku i<+uk Hkh vkidks vkuk pkfg, fd fdl fLFkfr esa C;fDr dks cq[kkj gksrk gSS] dc ’kjhj dk rkieku lkekU; gksrk gS ,oa dc 'kjhj <.Mk iM+rk gSA fMftVy FkekZehVj ds }kjk rkieku lsfYl;l o QkWjUgkbV esa fy;k tkrk gSA rkieku QkWjUgkbV esa ysuk o le>uk lcls vklku gksrk gSA vxj vki uke esfMdks gks rks vkidks ges’kk rkieku QkWjUgkbV esa gh ysuk pkfg,A blds fy, FkEkkZehVj ds cVu dks dqN nsj nck dj j[kuk iM+rk gSA vxj og lsfYl;l fn[kk jgk gS rks og QkWjUgkbV esa cny tk;sxk o vxj QkWjUgkbV fn[kk jgk gS rks og lsfYl;l esa cny tk;sxkA FkekZehVj ls rkieku ysus ls igys vkidks vius gkFkksa dks vPNh rjg lkcqu ls /kksus pkfg, rkfd uotkr f’k’kq ;k ftldk Hkh vki rkieku ys jgs gS oks O;fDr vkids }kj

सामान्य व्यक्ति के शरीर में ऑक्सीजन का लेवल कितना होना चाहिए I

  मनुष्य के शरीर में ऑक्सीजन का लेवल कितना होना चाहिए I कोरोनावायरस में ऑक्सीजन का महत्व बहुत ही अधिक बढ़ गया है। हम सभी के लिए यह जानना बहुत जरूरी हो गया है कि एक सामान्य व्यक्ति और कोरोना से पीड़ित व्यक्ति में ऑक्सीजन के स्तर में क्या अंतर होता है या हमें कब अलर्ट होने की जरूरत है ।  एक सामान्य व्यक्ति में ऑक्सीजन सैचुरेशन का स्तर 95 से कम से अधिक होना चाहिए ।  ऑक्सीजन सैचुरेशन का स्तर यदि 95 से कम होता है तो ऑक्सीजन सपोर्ट देना चाहिए और यदि 90 से कम हो जाता है तो मरीज को तत्काल अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत होती है ।  कई बार वातावरण का प्रभाव भी ऑक्सीजन के लेवल को प्रभावित करता है ।  पेट के बल लेटने से सामान्य से ज्यादा ऑक्सीजन शरीर के अंदर जाती है  । यदि ऑक्सीजन सैचुरेशन 90 से कम आ रहा है तो परेशानी बढ़ सकती है  ।  अतः ऐसी स्थिति में मरीज को तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए और कृत्रिम ऑक्सीजन देना जरूरी हो जाता है ।  कई बार पल्स ऑक्सीमीटर की बैटरी डाउन होने की वजह से भी सही तापमान नहीं आता है  ।  अतः पल्स ऑक्सीमीटर की बैटरी को भी समय-समय पर चेक करते रहना चाहिए ।  आपको मरीज का तापम